कमला कान्त पाण्डेय

PATNA:नीतीश के हनुमान आरसीपी सिंह
ने जदयू की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफ़ा दे दिया है.आज पूर्व केंद्रीय मंत्री ने अपने गांव मुस्तफ़ापुर में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि आपके माध्यम से हम कहना चाहते हैं कि पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफ़ा दे दिया हूं.नया संगठन बनाने का दिया संकेत.उन्होंने कहा कि जदयू डूबता हुआ जहाज है.अब इसमें बचा क्या है? बगैर नाम लिए कहा कि सात जन्म में भी वह प्रधानमंत्री नहीं बनेंगे
.

नालंदा जिले के मुस्तफापुर स्थित घर पर संवाददाताओं से बातचीत करते हुए जदयू के प्राथमिक सदस्यता से आरसीपी सिंह ने इस्तीफा दे दिया.उन्होंने मुख्यमंत्री पर भी जमकर हमला बोला.कहा हमसे घृणा है, विद्वेष है और साजिश रचना है तो परिवार और बच्चे को क्यों निशाना साधते हो.एक जदयू के प्रखंड अध्यक्ष के आरोप पर 40 बीघा जमीन खरीदने का गलत आरोप लगाया है.कहा कि सारी संपत्ति और भूखंड की जानकारी दोनों बेटियों ने अपने इनकम टैक्स रिटर्न में दर्शाया है.यह प्रमाणित है.

महज़ तीन घंटों में शासन और प्रशासन चलता है क्या? सुबह 10 बजे से रात तक हम काम करते थे.वह तो पांच बजे से चौकड़ी में भुंजा खाते और अपनी क़सीदे कढ़वाने में लगे रहें.देखिए काम का क्या मतलब होता है यह जनता दरबार में स्पष्ट रुप में देखा जा सकता है.

गौरतलब है जदयू के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह पर उनकी ही पार्टी ने गंभीर आरोप लगाते हुए नोटिस भेजा था. आरसीपी सिंह के खिलाफ कार्रवाई को लेकर एक बार फिर बिहार का राजनीतिक माहौल गरम हो गया. जदयू ने आरसीपी सिंह पर आरोप लगाया था कि उन्होंने पार्टी में रहते हुए अकूत संपत्ति बनाई है. जदयू नेताओं ने आरसीपी सिंह पर 9 साल में 58 प्लॉट खरीदने का गंभीर आरोप लगाया. जदयू ने आरसीपी सिंह को इस मामले में नोटिस भेजकर जवाब मांगा था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.