मंथन डेस्क

PATNA:ऐसे विरले ही होते हैं जो जिस संस्थान का छात्र हो और संस्थान उसकी प्रशंसा की गीत गाता हो.वह भी एक साल नहीं,लगातार वर्ष.कराटे मास्टर जाबिर अंसारी को यह सौभाग्य प्राप्त है.पटना विश्वविद्यालय में उर्दू विभाग के छात्र जाबिर अंसारी पटना कॉलेज की वार्षिक पत्रिका में जगह बनाने वाले इकलौते मुस्लिम हैं.पत्रिका ने अपने छात्र की उपलब्धि को निरंतर दूसरी बार प्रकाशित किया है.जाबिर बिहार स्टेट कराटे चैंपियन है. जाबिर ने 17 से 22 जनवरी को अन्तर विश्विद्यालय खेलों में स्वर्ण पदक जीत कर इतिहास रच दिया है. पटना विश्वविद्यालय से चयनित जाबिर ने अटल बिहारी विश्वविद्यालय, बिलासपुर, छत्तीसगढ़ में आयोजित मुक़ाबला में देश भर की 188 यूनिवर्सिटियों को मात देकर पटना यूनिवर्सिटी को यह गौरव दिलाया.इस टूर्नामेंट में 188 यूनिवर्सिटी ने भाग लिया था.इसी सप्ताह जाबिर ने लगातार सातवीं बार बिहार चैंपियनशिप गोल्ड मेडल जीता है.जमुई जिले के नक्सल प्रभावित झाझा प्रखंड के तुम्बा पहाड़ गांव के रहने वाले जाबिर ने सुविधाओं की कमी के बावजूद वह कर दिखाया जिसकी कल्पना सबों के बस की बात नहीं होती है.पटना कॉलेज ने अपनी पत्रिका में उसके गुणगान गये हैं तो यूं ही नहीं है.जाबिर अंसारी दो बार 2018 और 2021 में बिहार सरकार के खेल सम्मान समारोह में सम्मानित हो चुके हैं.उन्हें महात्मा बुद्ध सम्मान से भी नवाज़ा गया गया है.

कौन है जाबिर अंसारी?

जाबिर अंसारी कराटे के क्षेत्र में देश का जाना-माना नाम है. एक साधारण परिवार से आने वाले जाबिर साल 2015 से कराटे खेल रहे हैं. जाबिर अंसारी बिहार के नक्सल प्रभावित जिला जमुई के रहने वाले हैं. मध्यवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाले जाबिर को बचपन से ही कराटे का शौक है..इनके पिता इम्तियाज अंसारी झाझा प्रखंड के तुम्बापहाड़ गांव स्थित स्कूल में एक साधारण शिक्षक हैं. जिस पर पूरा परिवार आश्रित है.जाबिर 4 भाई बहन में सबसे बड़े हैं.मां फहीमा खातून को राष्ट्र वीरमाता जीजाबाई सम्मान-2018 प्राप्त है.जाबिर के पूर्व के प्रदर्शन की अगर बात करें तो वह राज्य से लेकर अंतराष्ट्रीय स्तर के चैंपियनशिप में खेलते हुए कई मेडल अपने नाम कर चुके हैं, जाबिर ने चार बार देश का प्रतिनिधित्व किया है. 2017 में श्रीलंका में आयोजित दक्षिण एशियाई कराटे प्रतियोगिता में अपने देश के लिए रजत पदक जीता है. जाबिर ने 2018 में चीन , थाईलैंड और 2019 में तुर्की में देश का प्रतिनिधित्व भी किया. 2018 में इंडोनेशिया में आयोजित एशियाई खेलों में भारत के संभावित कराटे खिलाड़ियों में शामिल हो कर प्रशिक्षण शिविर में भाग लिया था .

बिहार स्टेट कराटे चैंपियनशिप 2023 पर भी क़ब्ज़ा

बिहार स्टेट कराटे चैंपियनशिप 2023 पुनः जाबिर अंसारी ने अपने नाम कर लिया है.जाबिर ने लगातार सातवीं बार बिहार चैंपियनशिप गोल्ड मेडल जीत कर इतिहास रचने वाले पहले खिलाड़ी बन गये हैं. स्वर्ण पदक जीतने पर जाबिर का चयन राष्ट्रीय प्रतियोगिता के लिए हुआ.पटना के राजीव नगर स्थित एनआरआई प्लाजा में आयोजित बिहार स्टेट कराटे चैंपियनशिप में 10 से अधिक जिलों के खिलाड़ियों ने भाग लिया था.जाबिर ने बताया कि ये मेरा 7वां स्वर्ण पदक है. इसके पूर्व वर्ष 2015, 2016, 2017, 2018, 2019, 2021 एवं वर्तमान में 2023 का बिहार स्टेट स्वर्ण पदक जीता है.स्वर्ण पदक जीतने पर जाबिर का चयन राष्ट्रीय प्रतियोगिता के लिए हुआ है जो कि 17 से 19 फरवरी को देहरादून उत्तराखंड में आयोजित होना है. जाबिर अपनी इस जीत का श्रेय अपने कोच पंकज काम्बली को देते हैं जो हर संभव सहयोग करते हैं.

पटना विश्वविद्यालय को है गर्व

पटना विश्वविद्यालय के छात्र कल्याण संकायाध्यक्ष प्रो अनिल कुमार एवं प्रॉक्टर डॉ रजनीश कुमार ने जाबिर अंसारी को बधाई देते हुए कहा कि पटना विश्वविद्यालय के खिलाड़ी को प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार मिलना विश्वविद्यालय प्रशासन के लिए खुशी की बात है.साथ ही विश्वविद्यालय के खेल प्रेमी छात्रों एवं खेलों के प्रति भावना रखने वाले खिलाड़ियों के लिए भी यह गौरव की बात है.मालूम हो कि पटना कॉलेज पत्रिका ने दूसरी बार जाबिर की उपलब्धियों की प्रशंसा की है.उनके बारे में पत्रिका ने विस्तृत रिपोर्ट छापी है.जिसमें उनकी उपलब्धि,सम्मान,संदेश को शामिल किया गया है.जाबिर आवाज़ द वायस से कहते हैं पटना कॉलेज के वार्षिक पत्रिका में दूसरी बार मेरी उपलब्धि को जगह मिलना मेरे लिए बहुत गर्व की बात हैं.पत्रिका में उनका संदेश भी प्रकाशित हुआ है.जिसमें वह कहते हैं.कभी हार न मानें अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित होकर तब तक लगे रहे, जबतक लक्ष्य की प्राप्ति न हो जाय.महाविद्यालय में आनेवाले नये छात्रों को कहना चाहता हूं कि आप महाविद्यालय परिसर में अनुशासन, अध्ययन का माहौल,शिक्षकों के प्रति आदर भाव बनायें रखें.मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि महाविद्यालय की तरफ से आपको भी मेरे जैसा ही सम्मान, मार्गदर्शन और सहयोग मिलेगा. महाविद्यालय ने मेरे सपनों को एक नयी पहचान दिलाई.मुझे पटना विश्वविद्यालय का छात्र होने का जो गौरव प्राप्त हुआ और उससे बढ़कर जो मार्गदर्शन और सहयोग मिला उसके लिए मैं सदैव आभारी रहूंगा.सभी साथियों को उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएँ!

सोशल मीडिया पर छा गये

ऑल इंडिया इंटर यूनिवर्सिटी कराटे टूर्नामेंट (75Kg) में पटना यूनिवर्सिटी को स्वर्ण पदक दिलाने पर जाबिर को ख़ूब बधाई मिल रही है.पत्रकार आरिफ इक़बाल ने लिखा कि बिलासपुर में विजय पताका लहरा कर हम सभी को गौरवान्वित किया है.इस टूर्नामेंट में देश के कुल 188 यूनिवर्सिटी ने भाग लिया था जिसमे बिहार के जाबिर अंसारी ने पटना यूनिवर्सिटी के लिए खेला था. जाबिर अंसारी पटना यूनिवर्सिटी में उर्दू विभाग के छात्र हैं.शाबाश ज़ाबिर! हम सभी को आप पर गर्व है.बिहार विधान परिषद के सदस्य क़ारी सुहैब ने लिखा कि बिहार का नाम विश्वपटल पर ऊंचा करने वाले मुहम्मद जाबिर अंसारी ने छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में आयोजित इंडिया कराटे प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीतकर अपना परचम बुलंद किया है.मुहम्मद जाबिर लगातार देश और विदेशों में नई बुलंदी को छू रहे हैं.आप इसी तरह बुलंद इरादों से सपने सच करें. हम सभी के दुआएं आपके साथ है. पत्रकार सिमाब लिखते हैं कि इतिहास रच दिया यार तुमने ,188 यूनिवर्सिटी को मात दते हूए पटना यूनिवर्सिटी को तुमने गोल्ड दिलाया दिया ,जाबिर अंसारी बहुत बहुत मुबारकबाद.अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े विक्की शाह ने लिखा कि पटना विश्वविद्यालय के इतिहास में पहली बार किसी खिलाड़ी ने स्वर्ण पदक जीता हैं.उनके इस जीत पर बहुत-बहुत बधाई व भविष्य के लिए ढेर सारी शुभकामनाएं.पटना विश्वविद्यालय के लिये गर्व का पल है.पटना यूनिवर्सिटी की सिनेट सदस्य अंजुम आरा ने लिखा है कि जाबिर अंसारी ने स्वर्ण पदक जीत कर हम सभी को गौरवान्वित किया है.छात्र युवा संघर्ष समिति बिहार के कर्ताधर्ता सुधीर कुमार रजक ने लिखा कि इंडिया इंटर यूनिवर्सिटी कराटा टूर्नामेंट 2022 – 23 में भाग लेने वाले देश के सभी यूनिवर्सिटी के छात्रों को पछाड़ते हुए पटना विश्वविद्यालय के छात्र जाबिर अंसारी ने प्रथम स्थान पाकर बिहार और पटना विश्वविद्यालय का नाम रौशन किया है.बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी से मांग करता हूं कि इन्हे प्रोत्साहित करें.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.