मंथन डेस्क

PATNA:इंजीनियरिंग के सबसे कठिन प्रतियोगी परीक्षा JEE MAINS 2024 (जेईई मेन्स 2024) में पिछले वर्षों की तरह इस साल भी रहमानी 30 के छात्रों ने उत्कृष्ट और महत्वपूर्ण सफलता हासिल की है। रहमानी30 के 205 छात्रों में से 176 (86%) छात्र जेईई मेन्स में सफल हुए, जो उन्हें जेईई एडवांस परीक्षा के लिए योग्य बनाता है। रहमानी 30 अपने आरंभ 2008 से ही लगातार सफलता की ऊंचाइयों को प्राप्त कर रहा है और वंचित मुस्लिम मेधावी बच्चों को देश के श्रेष्ठ शैक्षिक और आर्थिक संस्थानों में भेज रहा है।

9 छात्रों ने 99 परसेंटाइल प्राप्त किया

सफल छात्रों में 9 छात्रों ने 99 परसेंटाइल प्राप्त किया, जबकि 13 छात्र 98 परसेंटाइल श्रेणी में थे, 19 छात्र 97 परसेंटाइल श्रेणी में रहे, 7 छात्र 96 परसेंटाइल श्रेणी में, और 17 छात्र 95 परसेंटाइल के श्रेणी में रहे। 176 सफल छात्रों में से कुल 128 छात्र 90 परसेंटाइल से ऊपर रहे हैं। आल इंडिया कैटेगरी रैंक 894 और आल इंडिया सामान्य रैंक 3247। रहमानी 30 के छात्रों का सफलता अनुपात 86% रहा।

रहमानी 30 आज भी प्रासंगिक

 हजरत मौलाना मोहम्मद वली रहमानी साहब रह. ने रहमानी30 की स्थापना वंचित मुस्लिम मेधावी छात्रों के लिए उच्च शिक्षा के द्वार के रूप में की थी, जो आज भी प्रासंगिक है। ₹2 – ₹7 लाख जैसी शुल्क लेने वाले संस्थानों के विपरीत, रहमानी30 आर्थिक पृष्ठभूमि की परवाह किए बिना सभी के लिए पूरी तरह से निःशुल्क कोचिंग प्रदान करता है। प्रारंभ में, हज़रत मौलाना रह. ने रहने के खर्च सहित पूर्ण छात्रवृत्तियां प्रदान कीं। हालाँकि, कार्यक्रम के क्षेत्रीय और संख्या में विस्तार के साथ, आर्थिक बोझ बढ़ा अतः हजरत मौलाना मोहम्मद वली रहमानी साहब रह. ने एक अस्थायी वित्तीय मॉडल स्थापित किया जिसमें तमाम बच्चों की पढ़ाई फ्री हो और जो बच्चा पढ़ाई के अलावा खर्चे में जितना दे पाए उतना दे, बचे हुए खर्च का इंतजाम रहमानी 30 करेगा। यह सुनिश्चित करते हुए कि गैर-शैक्षणिक खर्चों, जैसे आवास और भोजन के लिए बकाया प्रतिबद्ध योगदान के कारण किसी को भी कक्षा या भोजन से वंचित नहीं किया जाएगा।

 सफलता का श्रेय अल्लाह को

रहमानी30 के संरक्षक और बिहार, ओडिशा, झारखंड और बंगाल के कुछ हिस्सों के लिए अमीर ए शरीयत, हज़रत मौलाना अहमद वली फैसल रहमानी साहब इस सफलता का श्रेय अल्लाह को देते हैं। उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि ऐसी ऐतिहासिक उपलब्धियां केवल अल्लाह की दया और मार्गदर्शन से ही हासिल की जा सकती हैं।भविष्य की ओर देखते हुए, हजरत मौलाना अहमद वली फैसल रहमानी साहब इस संख्या को बढ़ाने का फ़ैसला किया है।

By admin

5 thoughts on “रहमानी30 की ऐतिहासिक सफलता: 86% छात्र जेईई मेन्स प्रवेश परीक्षा में उत्तीर्ण”

Leave a Reply

Your email address will not be published.