जेडीयू के भीतरखाने सब कुछ ठीक नहीं चल रहा. दल के वरिष्ठ नेताओं के बीच भारी अंर्तविरोध है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह के केंद्रीय मंत्री बनने के बाद से तो मनमुटाव सतह पर दिखने लगा है.

पटना/कमला कान्त पांडेय

जेडीयू के भीतरखाने सब कुछ ठीक नहीं चल रहा. दल के वरिष्ठ नेताओं के बीच भारी अंर्तविरोध है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह के केंद्रीय मंत्री बनने के बाद से तो मनमुटाव सतह पर दिखने लगा है. इसी बीच जदयू प्रदेश पदाधिकारियों की मीटिंग को लेकर विवाद खड़ा हो गया है. जदयू अध्यक्ष की तरफ से 18 जुलाई को प्रस्तावित मीटिंग के लिए 10 जुलाई को पत्र जारी किया. लेकिन 15 तारीख आते-आते दुबारा पत्र जारी करना पड़ा. दूसरे पत्र में राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह का नाम नदारद है.अब उपेन्द्र कुशवाहा जेडीयू पदाधिकारियों की मीटिंग में पहली दफे शामिल होने वाले हैं. आरएलएसपी का जेडीयू में विलय के बाद अब तक उपेन्द्र कुशवाहा पार्टी की मीटिंग से दूर ही रहे.

18 जुलाई को जेडीयू प्रदेश पदाधिकारियों की मीटिंग को आरसीपी सिंह संबोधित करने वाले थे. संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा का उस बैठक में शिरकत करने का कार्यक्रम नहीं था. लेकिन 15 जुलाई को कुशवाहा ने जिला प्रवास का कार्यक्रम स्थगित कर दिया.अब वे जेडीयू की मीटिंग में शामिल होंगे.


सनद रहे कि प्रदेश जदयू कार्यालय में राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने लगातार कई मीटिंग की. लेकिन उसमें कुशवाहा को आमंत्रित नहीं किया गया था. लेकिन इस बार प्रदेश नेतृत्व ने संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा को आमंत्रित किया है.
18 जुलाई को जेडीयू प्रदेश पदाधिकारियों की मीटिंग को आरसीपी सिंह संबोधित करने वाले थे. संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा का उस बैठक में शिरकत करने का कार्यक्रम नहीं था. लेकिन 15 जुलाई को कुशवाहा ने जिला प्रवास का कार्यक्रम स्थगित कर दिया.अब वे जेडीयू की मीटिंग में शामिल होंगे. इसी बीच प्रदेश नेतृत्व ने 15 जुलाई को जारी दूसरे पत्र में आरसीपी सिंह के संबोधन कार्यक्रम को हटा दिया. प्रदेश महासचिव अनिल कुमार की तरफ से पत्र जारी किया गया है. जिसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह के संबोधन का कोई उल्लेख नहीं है.

जदयू प्रदेश नेतृत्व की तरफ से जारी दो पत्रों पर विवाद खड़ा हो गया है. पहले पत्र में बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह के संबोधन का जिक्र था. लेकिन दूसरे पत्र में केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह के संबोधन वाला शब्द हटा दिया गया


जदयू प्रदेश नेतृत्व की तरफ से जारी दो पत्रों पर विवाद खड़ा हो गया है. पहले पत्र में बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह के संबोधन का जिक्र था. लेकिन दूसरे पत्र में केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह के संबोधन वाला शब्द हटा दिया गया. यानी बैठक को अब राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह संबोधित नहीं करेंगे. इधर उपेन्द्र कुशवाहा ने जिलों का दौरा रद्द कर दिया है. उनके जिला प्रवास का दूसरा चरण 18 जुलाई से शुरू होने वाला था. पहले वे मीटिंग में शामिल नहीं होने वाले थे. वे प्रवास कार्यक्रम में जाने वाले थे. लेकिन ऐन वक्त पर उन्होंने अपना कार्यक्रम स्थगित कर दिया. जानकारी के अनुसार अब वे 18 जुलाई को प्रस्तावित जदयू पदाधिकारियों की मीटिंग में शामिल होंगे. वैसे उपेन्द्र कुशवाहा पहली दफे पार्टी पदाधिकारियों की मीटिंग में शामिल होंगे.
प्रदेश नेतृत्व की तरफ से जारी पत्र में कहा गया है कि रविवार 18 जुलाई को सुबह 11 बजे से जदयू मुख्यालय स्थित कर्पूरी सभागार में प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक आयोजित की गई है. जिसमें सभी प्रदेश उपाध्यक्ष, महासचिव एवं सचिव, प्रदेश कोषाध्यक्ष, प्रदेश प्रवक्ता, तथा प्रकोष्ठ के प्रभारी एवं प्रदेश अध्यक्ष शामिल होंगे. बैठक की अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा करेंगे.
इस बैठक में वरीय नेता उपस्थित रहेंगे. इस पत्र में राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपीसी का नाम का उल्लेख नहीं किया है. 10 तारीख को जारी पत्र में प्रदेश महासचिव अनिल कुमार ने पार्टी नेताओं को सूचना देते हुए कहा था कि 18 जुलाई को वर्चुअल बैठक आयोजित की गई है. जिसमें पार्टी के सभी पदाधिकारी गण मौजूद रहेंगे. इस बैठक की अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *