गया/मंथन डेस्क

गया जिला परिषद के पूर्व उपाध्यक्ष शीतल प्रसाद यादव ने चुनाव लड़ने का एलान के साथ जिला की राजनीति गरमा गयी है.शीतल अपने अग्रज दिवंगत बिंदेश्वरी प्रसाद उर्फ बिंदी यादव की परम्परागत सीट बाराचट्टी-46 से जिला परिषद का चुनाव लड़ने जा रहे हैं.हालांकि,उनका चुनाव दो महीने बाद है मगर चुनाव अभियान का आग़ाज़ हो चुका है.

बुधवार को ज़िला परिषद प्रत्याशी शीतल यादव ने कई पंचायत का दौरा किया.जिसमें ग्राम पंचायत बुमेर में सेवई, मनफर, विघी, जाहजवा, गोही ग्राम के सभी मतदाताओं से सम्पर्क साध समर्थन मांगा. डॉ शीतल प्रसाद यादव के साथ विसुनदेव मांझी, देवलाल भगत रामलखन यादव,मोहन यादव, जुगेश यादव,समिक यादव साथ थे.

मालूम हो कि विधानसभा चुनाव लड़ चुके शीतल प्रसाद यादव जिला परिषद का चुनाव नहीं लड़ने के मूड में थे मगर क्षेत्र की जनता के दबाव पर उन्होंने चुनाव लड़ने का मन बनाया.सिर्फ उनके एलान और अभियान से जनता का अपार समर्थन मिल रहा है.इसी सीट से उनके बड़े भाई बिंदी यादव चुनाव जीत कर जिला परिषद का अध्यक्ष बने थे.शीतल यादव भी जिला परिषद का उपाध्यक्ष रह चुके हैं.ज़ाहिर सी बात है अनुकूल परस्तिथि रहने पर फिर उपाध्यक्ष की दावेदारी दिखा सकते हैं.

इस वजह से भी जिले की राजनीति गरमायी हुई है.शीतल यादव गया की राजनीति में क़द्दावर नेता माने जाते हैं.उन्हें बिंदी यादव की पत्नी और भाभी विधान पार्षद मनोरमा देवी का आशीर्वाद प्राप्त है.शीतल यादव बताते हैं कि परिवार की सहमति से ही वह चुनाव लड़ रहे हैं,भैया बिंदी यादव से लोग आज भी प्यार करते हैं और हमलोगों के परिवार से तीनों जिला गया,जहानाबाद,अरवल की जनता मज़बूती से जुड़ी हुई है और उनका आशीर्वाद प्राप्त है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *