पटना / डॉ अरुण कुमार मयंक


राजद के प्रदेश प्रवक्ता एजाज अहमद ने कहा कि बिहार में सत्तारूढ़ दल के लिए कानून के रखवाले नतमस्तक हैं, जबकि विपक्ष के लिए अलग तरह से कानून का पालन कराया जा रहा है. जहां सत्तारूढ़ दल के द्वारा कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन करके लगातार जिला से लेकर राज्य स्तर तक कार्यक्रम चलाया जा रहा है. वही विपक्ष के द्वारा जनहित तथा महंगाई के खिलाफ आंदोलन करने पर विभिन्न जिलों में विपक्षी दलों के नेताओं और कार्यकर्ताओं पर मुकदमा दर्ज कर लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन किया जा रहा है. राज्य में कानून का दो तरह का पैमाना अपनाया जा रहा है, यह कहां का न्याय है, बात समझ से परे है? बिहार के विभिन्न जिलों में राजद के नेताओं-कार्यकर्ताओं पर धड़ल्ले से मुकदमा दर्ज करके महंगाई के खिलाफ चल रहे आंदोलन को कुंद करने की साजिश चल रही है.
एजाज ने आगे कहा कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के आह्वान पर महंगाई के विरोध में राज्यव्यापी आंदोलन के क्रम में नालंदा सहित राज्य के अन्य जिलों में राजद की ओर से 18 एवं 19 जुलाई 2021 को जोरदार प्रदर्शन किया गया. इस तरह के सफल आंदोलनों से डरकर ही सत्तापक्ष के इशारे पर नालंदा जिला प्रशासन के द्वारा बिहारशरीफ के लहेरी थाना में पार्टी के सात नेता सहित सौ कार्यकर्ताओं पर अज्ञात करके मुकदमा दर्ज किया गया है. इसी तरह के मुकदमे अन्य जिलों में भी लगातार किए जा रहे हैं. इस तरह के मुकदमों से राजद के नेता व कार्यकर्ता ना पहले डरा है और न आगे डरेगा क्योंकि जनहित और महंगाई के खिलाफ आंदोलन निरंतर चलता रहेगा. बिहार सरकार कोविड प्रोटोकॉल की आड़ में विपक्षी दलों पर दमनकारी नीतियों को बंद करें अन्यथा राजद सड़क से लेकर सदन तक सुशासन के नाम पर चल रहे आलोकतांत्रिक कार्रवाई की पोल खोल कार्यक्रम चलाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *