डॉ अरुण कुमार मयंक / बिहारशरीफ


बिहार सरकार के शिक्षा एवं संसदीय कार्य मंत्री-सह-नालंदा के प्रभारी मंत्री विजय कुमार चौधरी ने आज बिहारशरीफ समाहरणालय के हरदेव भवन में जिले में बाढ़/अति वृष्टि एवं अन्य आपदाओं की स्थिति से संबंधित विषयों की समीक्षा की।
डीएम योगेन्द्र सिंह ने मंत्री का स्वागत किया।
उप विकास आयुक्त वैभव श्रीवास्तव ने पीपीटी के माध्यम से आपदा एवं कोरोना से संबंधित जिले में किए गए व किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी।उन्होंने कोरोना संक्रमण की जांच,वैक्सीनेशन की स्थिति, ऑक्सीजन प्लांट के संचालन की स्थिति, अस्पतालों में बेड,पल्सऑक्सीमीटर,ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की स्थिति की जानकारी दी।
डीडीसी ने कोविड संक्रमण से मृत्यु उपरांत दिए जानेवाले राहत अनुदान तथा आपदा अनुग्रह अनुदान की स्थिति की भी जानकारी दी। उन्होंने बर्षापात एवं इससे जुड़े विषयों पर भी मंत्री को अवगत कराया।
बैठक में नदियों में आए अधिक जल के कारण जिले के कुछ प्रखंडों में तटबंध कटाव तथा फसल क्षति की भी जानकारी साझा की गई। जलाधिक्य एवम जल जमाव के कारण हुए पथों के खराब होने तथा उसकी मरम्मति कराने की भी जानकारी दी गई। गंगा उदवह योजना के तहत की जा रही कार्यों पर तैयार वीडियो भी बैठक में दिखाया गया।
जिलाधिकारी ने कर्मियों की उपस्थिति सुनिश्चित कराने के लिए जिले में तैयार एप EAMS Employee Attendance Management System जिससे कर्मियों / पदाधिकारियों के Location की जानकारी मिलती है के बारे में भी मंत्री को बताया।


मंत्री चौधरी ने बैठक में उपस्थित सांसद तथा विधायकगण से दिखाया गया पी पी टी पर उनके विचार बताने का अनुरोध किया। सांसद कौशलेंद्र कुमार ने आपदा अनुग्रह अनुदान के चेक मिलने और राशि भुगतान में बिलंब होने की बात कही।
हरनौत के विधायक हरिनारायण सिंह ने आपदा से हुई फसल क्षति के तैयार प्रतिवेदन को आंशिक बताया। उन्होंने खाद की किल्लत की भी बात की। अस्थावां के विधायक डॉ जितेन्द्र कुमार ने आपदा में पशुओं के देखभाल पर प्रश्न उठाया।उन्होंने Co-vaccine के भी कुछ डोज जिला में उपलब्ध कराने की बात कही। अस्थावां के साफ-सफाई पर भी उन्होंने ध्यान देने की बात कही। खाद की किल्लत तथा कालाबाजारी एवं जर्जर अस्पताल भवन पर भी ध्यान देने की बात कही। हिलसा के विधायक कृष्ण मुरारी शरण ने उदेरा स्थान से छोड़े गए पानी से होने वाले जलाधिक्य और फसल क्षति की बात कही।
इस्लामपुर के विधायक राकेश कुमार रौशन ने बैठक से दो दिन पूर्व समीक्षात्मक प्रतिवेदन दिए जाने की बात कही। उन्होंने उनके द्वारा की जाने वाली अनुशंसा हेतु जिले में पंजी संधारण कर मॉनिटरिंग करने की बात कही।
विधायक गण के विचारोपरांत मंत्री ने कहा कि ऐसा प्रतीत हो रहा है कि जिले में आपदा की स्थिति पूर्ण रूप से नियंत्रण में है। चाहे वह बाढ़, सुखाड़ या कोरोना से संबंधित आपदा हो जिला द्वारा बिलकुल अच्छे तरीके से इसका सामना किया जा रहा है।
उन्होंने फसल क्षति पर सभी जन प्रतिनिधि गण से अनुरोध किया कि वे अभी अपने-अपने क्षेत्रों तथा इससे संबंधित व्यक्तियों के नाम सूची में जुड़वाने में मदद करें, ताकि सभी सही व्यक्ति का नाम जुड़ सके तथा गलत व्यक्ति को हटाया जा सके। उन्होंने खाद की किल्लत पर जिला कृषि पदाधिकारी से जानकारी ली तथा बताया कि खाद की मांग और आपूर्ति में भिन्नता के कारण कमी की स्थिति बनी है जिसे शीघ्र ही सुधार लिया जाएगा। उदेरा स्थान तथा मंडई बीयर की जानकारी बाढ़ नियंत्रण कार्यपालक अभियंता तथा मंडई बीयर के अभियंता से लिया तथा वहां से जल अचानक नहीं छोड़ने का निदेश दिया।
मंत्री ने शिक्षा विभाग में 40000 प्रधानाध्यापक की नियुक्ति बिहार लोक सेवा आयोग से कराने की बात कही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *