पटना/मंथन डेस्क

नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा की गरीबों का खुन चुसने का काम केन्द्र एवं राज्य सरकार कर रही है.महँगाई के कारण आम लोगों का जीना दुभर हो गया है.बेरोजगारी बढ़ रही है और गरीब एवं मध्यम वर्ग काफी परेशान है.केन्द्र की मोदी सरकार ने महँगाई को खत्म करने और अच्छे दिन लाने का वादा करके आयी थी, लेकिन आज केन्द्र सरकार की नीतियों के कारण चन्द लोगों को ही फायदा पहुँच रहा है.
उन्होंने आगे कहा कि महँगाई का विरोध करने वाले केन्द्र में जो आज मंत्री बने है उस समय गैस -सिलेंडर और प्याज का माला पहनकर आंदोलन किया करते थे.आज वो लोग कहां हैं, यह देश की जनता पुछ रहीं है.पेट्रोल संचूरी पार कर लिया है.रसोई गैस की बढ़ती कीमतों से महिलाए परेशान हैं. डीजल कि बढ़ती कीमतों के कारण इस्तेमाल की सभी वस्तुए आसमान छु रहीं है.केन्द्र सरकार को यह बताना चाहिए कि जब कच्चे तेल की कीमते अर्न्तरार्ष्ट्रीय बाजार में प्रति डौलर बैरल लगातार कम हो रहा है, तब देश और बिहार में लगातार कीमतों में वृद्धि का क्या कारण है.आज किसान भी तबाह है और महँगाई के कारण आम लोगों के खाने पर भी मुसीबत आ गई है.
तेजस्वी ने कहा कि जनसंख्या नियंत्रण से बड़ा मुद्दा महँगाई और भ्रष्टाचार है.लेकिन इसपर कहीं कोई चर्चा नहीं है.कोविड से बचाव के लिए वैक्सीन उपलब्ध नहीं है.ब्लैक फंगस की कहीं कोई दवा उपलब्ध नहीं है.जबकि सरकार ने वादा किया था कि 6 महीने में 6 करोड़ वैक्सीन लगाया जायेगा.लेकिन यह कहीं उपलब्ध हीं नहीं है.आँकडों की बाजीगरी करने में डबल इंजन की सरकार नं0 1 है.
उन्होंने कहा की सड़क से लेकर सदन तक आम जनों की आवाज राजद और महागठबंधन बनेगा.पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस एवं खाद्य के कीमतों तथा महँगाई के विरोध में सभी महागठबंधन दलों का साथ लेकर आन्दोलन किया जायेगा.
इस संबंध में राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानन्द सिंह की अध्यक्षता में बैठक करके यह फैसला लिया गया कि 18 जुलाई को राज्य के सभी प्रखण्ड मुख्यालयों पर तथा 19 जुलाई को सभी जिला मुख्यालयों पर प्रर्दशन किया जायेगा.जनता की आवाज पार्टी के सभी नेता एवं कार्यकर्ता उठायेगें और डबल इंजन की सरकार को चैन से बैठने नहीं देगें जब तक कि बढ़ी हुई कीमते वापस नहीं ली जाती है.
तेजस्वी ने विधान सभा अध्यक्ष को पत्र लिखे जाने पर आगे कहा कि 23 मार्च 2021 को विधान सभा के अन्दर लोकतंत्र को कलकिंत किया गया, महिलाओं तक को नहीं छोड़ा गया जब तक पदाधिकरियों पर कार्रवाई नहीं होती है सभी विधायकों में डर बना हुआ है.मैंनें सभी विधायकों की सुरक्षा की मांग की है.ज्ञात हो कि 23 मार्च को ही युवाओं की नौकरी के सवाल पर जब सड़कों पर आन्दोलन हुआ तो मुझ पर, पार्टी नेताओं सहित सैकड़ों कार्यकर्ताओं को सड़कों पर पीटा गया और 307 का मुकदमा किया गया.सरकार नहीं चाहती है कि कोई जायज सवाल पुछा जाये.चोर दरवाजे से बनी सरकार के मुखिया नीतीश कुमार की चिन्ता सिर्फ इस बात पर है कि उनका शेष जीवन अच्छे से बीत जाये.
उन्होनें कहा कि भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह नीतीश कुमार है, यह इस बात से समझा जा सकता है कि जब इनके ही मंत्री बड़े पदाधिकारी और प्रधान सचिव पर भ्रष्टाचार की बातें करते है तब नीतीश कुमार मौन हो जाते है और उनपर कार्रवाई करने की जगह उन्हें संरक्षण देते हैं.आज चारो ओर बिना घुस के कोई काम नहीं हो रहा है.घुसखोरी राज्य सरकार की परंपरा बन गई है यहीं इनके विकास का फार्मुला है.ईमानदारी से काम करने वाले और सच्च बोलने वाले पर कार्रवाई कि जाती है.
उन्होंने कहा कि मानसुन सत्र पर चर्चा के लिए 25 जुलाई 2021 को महागठबंधन के सभी नेताओं के साथ बैठकर आगे की रणनीति पर चर्चा की जायेगी.संवाददाता समेलन में प्रदेश अध्यक्ष जगदानन्द सिंह, राष्ट्रीय महासचिव श्याम रजक, प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ0 तनवीर हसन, प्रदेश प्रधान महासचिव आलोक कुमार मेहता, प्रदेश के मुख्य प्रवक्ता भाई विरेन्द्र, प्रवक्ता रामानुज प्रसाद, शक्ति सिंह यादव, एज्या यादव, एजाज अहमद, चितरंजन गगन, प्र्रंशात कुमार मंडल, सहित अन्य मान्य नेतागण उपस्थित थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *