आरा/मनीष

किसान विरोधी बिल, बेरोजगारी, महंगाई, जातीय जनगणना सहित अन्य मुद्दों पर भारत बंद का आरा में जोरदार असर देखा गया।अहले सुबह ही राजद कार्यकर्ता व नेता रेलवे स्टेशन परिसर में जुटे जहां से केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए शहर के त्रिभुवानी मोड़ को जाम कर दिया गया।उसके बाद राजद कार्यकर्ताओं ने नवादा चौक की ओर बढ़ कर उस रास्ते को भी जाम कर विरोध प्रदर्शन किया। सड़क जाम कर सभा भी आयोजित की गई।

मौके पर सभा को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष वीरबल यादव ने कहा कि देश मे लगभग 10 महीनों से किसान आंदोलनरत हैं लेकिन सरकार उनकी सुध तक नहीं ले रही है। किसानों की मांग वाज़िब है लेकिन केंद्र सरकार किसानों के साथ अमानवीय व्यवहार कर रही है। जो तीन कृषि बिल लाये गए हैं वो सीधे तौर पर कॉरपोरेट को फायदा पहुंचाने वाला बिल है। किसान आत्महत्या करने पर मजबूर हैं। उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र सरकार द्वारा अंबानी-अडानी के हाथों देश बेचने का यह मंसूबा कभी राजद पूरा नहीं होने देगा। उन्होंने जातिगत जनगणना पर भी कहा की यह अतिआवश्यक विषय है। ग़रीबों और पिछड़ो के इस अधिकार को भी केंद्र सरकार मानने से इनकार कर रही है।

वहीं दूसरी ओर सभा को संबोधित करते हुए प्रदेश सचिव मनोज सिंह ने कहा कि राजद सदैव गांव-गरीब-किसान-मजदूर की लड़ाई लड़ती आई है। आज भी किसानों की जायज़ मांग को लेकर हम सभी अपने नेता तेजस्वी यादव के आह्वान पर सड़क पर उतरे हैं। उन्होंने केंद्र सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर अविलंब आंदोलनरत किसानों की मांगे नहीं मानी गई तो राजद दिल्ली की ओर कूच करेगा।

सभा को संबोधित करते हुए प्रधान महासचिव रामबाबू पासवान ने कहा कि वर्तमान केंद्र सरकार अंबानी-अडानी के गोद में बैठी सरकार है।आज पूरे देश में किसानों के फसलों का उचित मूल्य नहीं मिल रहा है।महंगाई की मार से लोगों को मारा जा रहा है। इस सरकार से न छात्र ख़ुश हैं न ही दलित पिछड़े। दलितों पर भी आये दिन हमले हो रहे हैं।

वहीं दूसरी ओर सभा को संबोधित करते हुए वरिष्ठ राजद नेता हीरा ओझा ने कहा कि किसानों के हक और अधिकार के लिए राजद सदैव संघर्षरत रहेगा।जब तक किसानों की मांगों को नहीं पूरा किया जाता है तब तक सड़क से लेकर सदन तक आंदोलन होता रहेगा और सरकार को झुकना ही पड़ेगा।

मौक़े पर वरिष्ठ नेता कपिलदेव अकेला, मुकेश सिंह यादव, आरती देवी, हीरा ओझा, एकराम आलम, गजेंद्र यादव, छात्र राजद प्रदेश उपाध्यक्ष आलोक रंजन, अरुण सिंह यादव, जगदीश कुशवाहा, राजेश पासवान, अनिल यादव, दीपु रणावत यादव, महफूज आलम, विनोद चंद्रवंशी, भीम यादव, ओम प्रकाश शर्मा, अमित ठाकुर, मुन्ना सम्राट, अनूप मौर्य, वतन प्रभात, मदन यादव, धनजित यादव, राजा पासवान,सफ़ी क़ुरैशी, अनूप यादव, तपन सिंह, करन, तेजू त्यागी, भूनेश्वर यादव, सुभाष यादव, चंदन, सुनील यादव, गोविंद यादव, रामसुभग बिंद, ईशान राज, केडी भाई, जितेंद्र पासवान, अजय यादव, अनुज यादव , श्याम सुंदर समेत कई थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *