मधुबनी/करीमुल्लाह

यूं तो बारिश मानसून में होती है, पर अमूनन शहर की सूरत नही बिगड़ती है.पर मधुबनी शहर का हाल यह है कि लगभग आधा शहर बाढ़ के नहीं बारिश के कारण डूब गया हुआ है.थाना भी इसके चपेट में है. जयनगर बस्ती पंचायत के लगभग सभी घर बरसात में डूब गए हैं.जहां एक तरफ नगर पंचायत तमाम दावे कर रहा है, सफाई की, अतिक्रमण नहीं होने का, बारिश में नालों के जाम नहीं होने की, पर ये सारे दावे उस समय फुस्स हो गए जब एक अखाड़ बारिश में ही शहर आधा डूब गया.

फुलपरास अनुमंडल थाना

जिले के फुलपरास अनुमंडल थाना में हर वर्ष बारिश का पानी प्रवेश कर जाता है.देखिए किस प्रकार से पुलिस वाले पानी के बीच थाने कैम्पस में बने जर्जर बैरेक क्वाटर में रहने को मजबूर हैं.रात हो या दिन जहरीले सांपों का डर हमेशा सताता है.वरदी पहनकर हाथों में जुते लेकर ड्यूटी के लिए रोजाना निकलना इन पुलिस वालों की किस्मत में लिखा है.रात दिन पेट्रोलिंग ड्यूटी करने के बाद अमानवीय तरीके से रहने को मजबूर पुलिस वालों को गंदे पानी के बीच में रहकर टायफाईड, मलेरिया व कोरोना जैसे गंभीर बीमारी से ग्रसित होने का ख़तरा है.पुलिस अधिकारी बताते हैं के कई बार वरिष्ठ अधिकारी को बताया लेकिन सुध लेने वाला कोई नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *