अयोध्या/मंथन डेस्क

अगले साल विधानसभा चुनाव को देखते हुए सियासी सरगर्मियां बढ़ गईं है. उत्तर प्रदेश में दूसरी बार विस चुनाव लड़ने जा रही ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआइएमआइएम) आज अयोध्या की रुदौली में अपनी चुनावी रैली करने जा रही है.इससे पहले उन्होंने लखनऊ में बाहुबली अतीक अहमद की पत्नी को पार्टी की सदस्यता दिलाई.ओवैसी की मौजूदगी में पूर्व सांसद बाहुबली अतीक अहमद की पत्नी शाइस्ता परवीन AIMIM का दामन थाम लिया.माना जा रहा है कि शाइस्ता परवीन असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM से प्रयागराज पश्चिमी सीट से विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार भी हो सकती हैं.

कौन हैं अतीक अहमद?

अतीक अहमद इन दिनों गुजरात की अहमदाबाद जेल में बंद हैं.19 अप्रैल 2019 को चुनाव आयोग ने अतीक अहमद को देवरिया जेल से नैनी जेल ट्रांसफर किया गया था.वहीं, बरेली जेल भी उसे रखने को तैयार नहीं थी.आखिर 3 जून 2019 में सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर अतीक अहमद को गुजरात की जेल भेज दिया गया. वह इन दिनों अहमदाबाद की साबरमती जेल में बंद है.अतीक अहमद 5 बार विधायक भी रह चुके हैं.साल 2004 में एक बार सांसद रहे हैं.दो बार समाजवादी पार्टी में शामिल हो चुके हैं.

अतीक-ओवैसी

ओवैसी ने अतीक का किया बचाव

एक आपराधिक रिकॉर्ड के नेता की पत्नी को पार्टी में शामिल किए जाने पर सवाल पर जवाब देते हुए असदुद्दीन ओवैसी ने कहा,38% भाजपा विधायक पर क्रिमनल चार्ज है.116 सांसदों पर चार्ज है.यहां तक कि उनकी सहयोगी जदयू के 81% लोगों पर क्रिमनल चार्ज हैं.योगी खुद अपने पर लगे केस को वापस लेते हैं.जिस नेता का नाम प्रज्ञा, कपिल होगा यह लोकप्रिय नेता होगा.लेकिन जिसका नाम अतीक और मुख्तार होगा वह बाहुबली होगा.भारत के कानून के हिसाब से किसी भी केस में अतीक पर मामला साबित नहीं हुआ है.

फ़ैज़ाबाद पर विवाद

असदुद्दीन ओवैसी मंगलवार से तीन दिनों के अयोध्या दौरे पर हैं.अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए ओवैसी चुनावी यात्रा निकाल रहे हैं,जिसका फोकस इस बार अयोध्या है.रुदौली से ओवैसी के चुनाव प्रचार का आगाज हो जाएगा.8सितंबर और फिर 9 सितंबर को वे सुल्तानपुर एवं बाराबंकी में जनसभा को संबोधित करेंगे.इस बीच ओवैसी द्वारा अयोध्या को फैजाबाद कहे जाने पर विवाद हो गया है.यही नहीं,अयोध्या में ओवैसी की पार्टी ने जो बैनर और पोस्टर्स लगवाए हैं, उन पर भी फैजाबाद लिखा है.इससे लोगों में गुस्सा है.खासतौर पर संत समाज नाराज है.साधु संत ओवैसी पर बैन लगाने की मांग कर रहे हैं.उनका कहना है, अयोध्या को फैजाबाद कहना हिंदू धर्म का अपमान है.मालूम हो कि योगी सरकार ने नवंबर 2018 में ही फैजाबाद का नाम बदल कर अयोध्या कर दिया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *