•मदरसा में आतंकवादी गतिविधि का एक सबूत कोई पेश कर दे तो ले लूंगा राजनीति से संयास:मोनाजिर

•नीतीश कुमार सुलझे हुए व्यक्ति हैं ऐसे लोगों पर नकेल कसे

•मदरसों में नहीं पढ़ायी जाती झूठी देश भक्ति:इज़हार अहमद

•डॉ.ज़ाकिर हुसैन,फखरूद्दीन अली अहमद,एपीजे अब्दुल कलाम भी मदरसा से ही पढ़ कर निकले


Patna:बांका के नवटोलिया स्थित मदरसा में धमाका के बाद जदयू-भाजपा के नेता आमने सामने हो गए हैं.मुस्लिम नेता भी हरी भूषण ठाकुर के बयान से खफ़ा हैं.एक तरफ जहां भाजपा नेता मदरसों को आतंकवादी गतिविधियों का अड्डा बता कर बंद करने की बात कह रहे है वहीं जदयू के वरिष्ठ नेता, बेगूसराय के पूर्व सांसद व पूर्व कैबिनेट मंत्री डॉ. मोनाजिर हसन ने यहां तक कह दिया है कि अगर मदरसों पर अंगूली उठाने वाले लोग एक भी मदरसा में साबित कर दें कि वहां आतंकवादियों को प्रशिक्षण दी जाती है और अतंक की पढ़ाई होती है तो राजनीति से संयास ले लेंगे.

डॉ. मोनाजिर हसन ने कहा ऐसे ही उच्चस्तरीय लोगों की सोची समझी साजिश का नतीजा लगता है कि बांका में धमाका हुआ है.विस्फोट कराकर मुसलमान और मदरसों को बदनाम करना चाहते हैं.जबकि इतिहास गवाह है कि आजादी की लड़ाई में मदरसों ने हमेशा मुसिबत के समय मदद और नेतृत्व करने का कार्य किया है.मदरसा मरकज हुआ करता था.सरकार को ऐसे विवादित बयान देने वालों पर सख्त से सख्त कार्रवाई करनी चाहिए.इससे माहौल खराब होता है और सांप्रदायिक ताकतों को बढ़ावा मिलता है.मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सुलझे हुए व्यक्ति हैं. इन लोगों पर नकेल कसने का कार्य करें.

उन्होंने कहा कि बांका मदरसा धमाका का निष्पक्ष जांच सरकार को कराना चाहिए.साथ ही उन्होंने कहा कि जो लोग आतंवादियों का अड्डा बता कर मदरसों को बंद करने की बात कह रहे हैं वह अपनी राजनीति रोटी सेंककर मीडिया में सुर्खियां बटोरना चाहते हैं.उन्हें मालूम होना चाहिये कि मदरसों में मासूम, गरीब, यतीम बच्चे पढ़ते हैं. मदरसा में धमाका की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है.जो सुनियोजित तरीके से की गई हैं.जिससे सांप्रदायिक माहौल बिगड़े.उन्होंने लोगों से भाईचारा को बनाए रखने की अपील की.

पूर्व विधायक डॉ.इज़हार अहमद भी भाजपा विधायक द्वारा मदरसा पर दिये गये बयान से काफी खफ़ा हैं.उन्होंने कहा कि मदरसों और मस्जिद में निर्माण की सीख दी जाती है.वह सीख देश निर्माण,समाज निर्माण,चरित्र निर्माण की होती है.जो यह सीख हासिल कर रहा हो वह विध्वंस की सोच भी नहीं सकता.

भाजपा विधायक का आरोप बेबुनियाद,शर्मनाक और भर्त्सनायोग्य है. विधानसभा के प्राक्कलन समिति के पूर्व चेयरमैन इज़हार अहमद कहते हैं कि मदरसों में बच्चों को देश के प्रति प्रेम का सबक़ पढ़ाया जाता है,झूठी देश भक्ति नहीं. डॉ.ज़ाकिर हुसैन,फखरूद्दीन अली अहमद,एपीजे अब्दुल कलाम भी मदरसा से ही पढ़ कर निकले और भारत के सबसे सम्मानित पद को सुशोभित कर दुनिया में अपने देश का नाम रौशन किया.

हरी भूषण ठाकुर जैसे लोग मदरसों और मस्जिद को आतंकवाद का अड्डा बता कर भारत की गंगा-जामुनी संस्कृति और देश की साझी विरासत को तहसनहस करना चाहते हैं.पूरी क़ौम को टार्गेट करने को अमनपसंद आवाम कभी बर्दाश्त नहीं करेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *